penukonda fort photos

Best 10. place anantapur temple fort

आंघ्र प्रदेश  के अनंतपुर जिला के अंतर्गत पर्यटन स्थल lipakshi Temple, restaurants near me, penukonda fort history , gooty fort, तिम्मम्मा मर्रिमानु

हेलो दोस्त कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूं कि आप लोग अच्छे ही होंगे दोस्त पिछले पोस्ट में हम आंध्र प्रदेश  के पूर्वी गोदावरी जिले के घूमने वाले स्थल के बारे में बताया था। आज की इस पोस्ट में हम आंध्र प्रदेश  के अनंतपुर जिला के बारे में बताएंगे कि यहां पर घूमने वाले जगह के बारे में बात करेंगे जो कि देखने में बहुत ही खूबसूरत जगह है। दोस्त आज के पोस्ट में हम chittoor weathe, tada falls trekking, tada falls map, how to reach nagalapuram falls from chennai, penukonda fort history, thimmamma marrimanu history in telugu के बारे में जानकारी आप सभी को दी जाएगी तो आप सभी कृपया बने रहे इस पोस्ट के साथ और इंटरेस्टिंग जगह का आनंद लीजिए। तो दोस्त चलते हैं इस पोस्ट की ओर।

anantapur district history| अनंतपुर जिला इतिहास

penukonda fort photos
penukonda fort photos

Best 10. place anantapur temple fort anantapur  | अनंतपुर भारत के अंध्र प्रदेश राज्य के एक जिला है। इसे अनंतपुरमू भी कहा जाता है। anantapur |अंनतपुर जिला का क्षेत्रफल लगभग 19.130 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैली हुई है। 2011 के जनगणना के अनुसार यहां की जनसंख्या लगभग 40,83,315 है। अनंतपुर जिला राज्य के सबसे बड़े जिला में से एक है। यह जिला उत्तर में कुरनूल और पूर्व में कडप्पा, चित्तूर तथा दक्षिण और पश्चिम में कर्नाटक राज्य से घिरा हुआ है। अनंतपुर रेशम व्यापार के लिए आधुनिक रूप से जाना जाता है। anantapur की पर्यटन स्थल के बारे में बात की जाए तो लिपाक्षी मंदिर यहां का सबसे प्रमुख आकर्षण मंदिर है, यह जिला आंध्र प्रदेश के कुड्डुपा पहाड़ियों के पूर्व भाग में अवस्थित है। अनंतपुर सन 1800 ईसवी तक ईस्ट इंडिया कंपनी का प्रमुख केंद्र था।

 anantapur का संबंध थामस मुनरो से भी रहा था। थामस मुनरो 1819 इससे 1826 ईसवी के बीच मद्रास का गवर्नर था। थामस मुनरो को किसान भूमिका स्वामी मानता था। anantapur | अनंतपुर के नजदीक गांव लेपाक्षी पर्यटन स्थल चित्रोंयुक्त मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यदि आप सभी अनंतपुर घूमने के लिए जाते हैं, तो एक बार इस मंदिर का जरूर दर्शन करें क्योंकि यहां का अद्भुत मंदिर है, इस मंदिर में दूर-दूर से पर्यटक दर्शन करने के लिए आते हैं। इस मंदिर का निर्माण 16वीं शताब्‍दी में किया गया था, इस मंदिर में तीन भगवान का स्थान बनाया गया है पहला भगवान शिव दूसरा भगवान विष्णु और तीसरा भगवान वीरभद्र को समर्पित कियागया है। भगवान शिव नायक शासकों के कुलदेवता थे। इस मंदिर में भगवान गणेश जी का भी स्थान बनाया गया है, जो की यहां आने वाले पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करती है। anantapur pin code | अनंतपुर पिन कोड- 515001

lipakshi Temple | लिपाक्षी मंदिर

anantapur district
anantapur district

लेपाक्षी anantapur के हिंदूपुर का एक हिस्सा है यह वास्तव में एक छोटा सा गांव है यह गांव के अपने कलात्माक मंदिरों के लिए जाना जाता है इसका निर्माण 16वीं  शताब्दी में किया गया था। यह मंदिर विजय नगर गांव का सुंदर उदाहरण लिपाक्षी मंदिर है।

anantapur weather | अनंतपुर मौसम

 anantapur | अनंतपुर में मौसम गर्मी के समय में यहां पर बहुत ही ज्यादा गर्मी होती है, यहां गर्मियों फरवरी के अंत से जून के अंत तक रहती है गर्मियों के दौरान यहां का तापमान 36 -40  डिग्री सेल्सियस के बीच तक पहुंच जाता है अप्रैल और मई में सबसे ज्यादा गर्मी पड़ती है, यदि आप लोग गर्मी के महीने में अनंतपुर की यात्रा करना चाहते हैं हमारे सलाह के अनुसार गर्मी के महीने में यात्रा करना ठीक नहीं है।

मानसून- यहां पर मानसून जुलाई महीनों में प्रवेश करती है और सितंबर के महीने तक रहती है। मानसून महीने में अनंतपुर की तापमान anantapur temperature | 35 डिग्री सेल्सियस तक रहती है। अनंतपुर में बारिश के दौरान बहुत ज्यादा कठिनायों का सामना करना परता है।

सर्दी- अनंतपुर में ठंड का मौसम दिसंबर से फरवरी तक रहता है और जनवरी के महीने में काफी ठंड रहती है ठंड के महीने में यहां का तापमान 25 डिग्री सेल्सियस तक रहता है यहां रात के समय में काफी ठंड रहती है।

यदि आप सभी अनंतपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो आप के लिए घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर-नवंबर दिसंबर जनवरी और फरवरी के दौरान घूम सकते हैं इन महीनों के दौरान मौसम में ठंडा पन रहता है, और हल्की गुनगुनी धूप में anantapur की शेर आसानी से कर सकते हैं, इस मौसम में यहां का तापमान थोड़ा कम रहती है। यहां पर दिन के अपेक्षा रात में ठंड ज्यादा होती है। यदि आप अनंतपुर में विभिन्न पर्यटन अस्थल घुमना पसंद करते हैं, आपको घुमने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च महीनो में घुमने के लिए अच्छा समय हैं।

restaurants near me

  • The Lassi Day
  • Garlica Multicuisine Restaurant
  • Infinity Cafe & Bistro
  • The vintage
  • Blue Moon Highway Restaurant
  • IDLI n More
  • SS Paradise
  • Food Devils
  • Sri Sagar
  • Sujatha
  • Hyderabad Chefs
  • Thulasi Brundavan
  • Irish Rover

आनंदपुर जिले के आसपास शहरों की दूरी | Distance of cities around anantapur district

  • anantapur to Bangalore- 214.8 km
  • hyderabad to anantapur- 359.6 km
  • bangalore to anantapur- 213.9 km

penukonda fort history | पेनुकोंडा किले का इतिहास

penukonda fort photos
penukonda fort photos

penukonda fort  | पेनुकोंडा किले भारत देश के अंध्र प्रदेश राज्य में अनंतपुर एक छोटे से नगर में स्थित है। पेनुकोंडा किला प्राचीन काल में विजयनगर राजाओं के दूसरे राजधानी के रूप में जाना जाता था।  पेनुकोंडा किला अनंतपुर से लगभग 70 किलोमीटर दूर यह किला कुरनूल बंगलुरु रोड पर स्थित है। पेनुकोंडा किला को पहाड़ की चोटी पर बनाया गया है। यह किला पर्यटकों के लिए खूबसूरत दृश्य प्रस्तुत करता है। इस किले के अंदर शिलालेखों में राजा बुक्का प्रथम द्वारा अपने पुत्र वीर वीरपुन्न उदियार को शासनसत्ता सौंपने का जिक्र मिला था। उनके ही शासनकाल में इस किले का निर्माण हुआ था। पेनुकोंडा किला का वस्तु इस प्रकार था कि कोई व्यक्ति यहां तक पहुंच नहीं पाता था। येरामंची द्वार प्रवेश करते हैं भगवान हनुमान जी की 11 फीट ऊंचे विशाल प्रतिमा दिखाई पड़ती है। पेनुकोंडा किला के वास्तुशिल्प में हिंदू और मुस्लिम शैली का संग देखने को मिला था। यहां पर 1575 में बना गगन महल शाही परिवार का सरम रिजॉर्ट  था। पेनुकोंडा किले दुर-दुर से पर्यटक घुमने के लिए आते हैं और यहां पर खूबसूरत दृश्य को देखर कर आनंद लेते हैं। penukonda fort pin code- 515110

gooty fort history | गूटी किले का इतिहास

about gooty fort – gooty fort | गूटी किला आंध्र प्रदेश राज्य के अनंतपुर से लगभग 52 किलोमीटर दूर स्थित है। आंध्र प्रदेश राज्य के सबसे पुराने पहाड़ी किला में से एक है। गूटी शब्द यहां के स्थानीय लोग गुट्टी कहते हैं, गुटी शब्द शहर के गौतमपुरी के नाम से लिया गया है। गूटी किला के परिसर के अंदर स्थित नरसिम्हा मंदिर के करीब चट्टानों पर आठ शिलालेख पाए गए हैं। ये शिलालेख गंभीर रुप से क्षतिग्रस्त या टूटी-फूटी  है। यह किला पहाड़ियों के एक समूह पर स्थित है जो कि समुद्र तल से लगभग 680 मीटर ऊपर है। पहाड़ियों को नीचे ले स्पर्श द्वार से जोरा जाता है, गूटी किला का गढ़ पश्चिम पहाड़ियों पर स्थित है। गढ़ के शिखर पर दो इमारतें भी मौजूद हैं, ravadurg gooty fort  का निर्माण सातवीं शताब्दी के आसपास हुआ था। 1746 ईस्वी के आसपास मराठा सेनापति मुरारी राव ने किले पर कब्जा कर लिया और 8 साल बाद इसे अपना स्थाई निवास बना लिया। उन्होंने किलो की मरम्मत भी की और छोटे प्रवेश द्वार के प्लास्टर अलंकरण की शुरुआत की थी।

उसके बाद मैसूर शासक हैदर अली ने 1775 ईस्वी में किले पर हमला किया और किलो को घेर लिया। 2 महीने के बाद मुरारी राव को आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर कर दिया था, क्योंकि वह पानी नहीं मिलने के कारण किले से बाहर भाग गया था। बाद में गूटी किला ईस्ट इंडिया कंपनी के नियंत्रण में आ गया था, इसके प्रशासक थॉमस मुनरो को तलहटी में स्थित कब्रस्तान में दफना दिया गया था। गूटी किला गूटी के मैदान से लगभग 300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। गूटी किले के अंदर 15 किलो और 15 मुख्य द्वार भी मौजूद है।

thimmamma marrimanu history | तिम्मम्मा मर्रीमनु इतिहास

thimmamma marrimanu images
thimmamma marrimanu images

thimmamma marrimanu  | तिम्मम्मा मर्रिमानु आंध्र प्रदेश के अंतपुर जिला से लगभग 100 किलोमीटर दूर स्थित है। यह स्थान बरगद के पेड़ के लिए प्रसिद्ध माना जाता है जिसे स्थानीय भाषा में इसे गांव के लोग देवी भी माना जाता है। यह पेड़ भारत में सबसे बड़ा पेड़ है। यह पेड़ लगभग 4.7 एकड़ जमीन में फैली हुई है। इस पेड़ को 1989 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया था। मंदिर के नीचे तिम्मम्मा को समर्पित एक छोटा सा मंदिर भी है। माना जाता है कि तिम्मम्मा का जन्म सत्य वाजली परिवार में हुआ था, वह अपने पति बाला वीरय्या की मृत्यु के बाद वे सती हो गई थी, माना जाता है कि जिस स्थान पर उनको आत्मदाह किया था उसी स्थान पर यह बरगद का पेड़ स्थित है। यहां के लोगों को विश्वास है कि यदि कोई नि: संतान दंपत्ति यहां प्रार्थना करते हैं तो अगले ही साल तिम्मम्मा की कृपा से उनके घर में संतान हो जाती है। शिव यात्रा के अवसर पर यहां जात्रा का आयोजन किया जाता है जिसमें हजारों भक्त यहां यहां पर तिम्मम्मा की पूजा करते हैं।

निष्कर्ष

तो दोस्त आज हमने आंध्र प्रदेश के अंतपुर जिले के इतिहास के बारे में बताएं और इस जिले से जुड़े उन सभी जगहों के बारे में बताए हैं जो कि इस जिला को एक सुंदरता के रूप में जाना जाता है और यहां के वातावरण के बारे में भी बताए हैं  इस जिले में सबसे ज्यादा घुमने का कोन सा जगह हैं  इन सभी के बारे में हम आज के इस पोस्ट में जाने हैं जैसे penukonda fort photos, gooty fort images, gooty fort photos, thimmamma marrimanu images, thimmamma marrimanu history in telugu, thimmamma marrimanu photos, thimmamma marrimanu map, kadiri to thimmamma marrimanu distance, thimmamma marrimanu map इन सभी के बारे में हम बहुत ही अच्छी तरह से जान लिए हैं यदि आप सभी को घूमने जाना है तो आप कैसे जाएंगे और कौन से समय में जाएंगे इन सब का अंदाज आ ही गया होगा तो दोस्त यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। धन्यवाद

Best 10. place east godavari district temple & dam

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Click Here To Translate