Godavari arch bridge

Best 10. place east godavari history

आंध्र प्रदेश  के ईस्ट गोदावरी जिला के अंतर्गत पर्यटन स्थल east godavari map, east godavari villages, pithapuram kukkuteswara swamy temple history, coringa wildlife sanctuary accommodation

हेलो दोस्त कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूं कि आप लोग अच्छे ही होंगे दोस्त पिछले पोस्ट में हम आंध्र प्रदेश  के अनंतपुर जिले के घूमने वाले स्थल के बारे में बताया था। आज की इस पोस्ट में हम आंध्र प्रदेश  के ईस्ट गोदावरी | east godavari जिला के बारे में बताएंगे कि यहां पर घूमने वाले जगह के बारे में बात करेंगे जो कि देखने में बहुत ही खूबसूरत जगह है। दोस्त आज के पोस्ट में हमecourts east godavari, coringa wildlife sanctuary accommodation, kukkuteswara swamy temple timings, kakinada haritha beach resort के बारे में जानकारी आप सभी को दी जाएगी तो आप सभी कृपया बने रहे इस पोस्ट के साथ और इंटरेस्टिंग जगह का आनंद लीजिए। तो दोस्त चलते हैं इस पोस्ट की ओर।

east godavari | पूर्वी गोदावरी

east godavari
east godavari

Best 10. place east godavari history ईस्ट गोदावरी आंध्र देश राज्य के जाने-माने जिलों में से एक है जो कि क्षेत्र के अंतर्गत आता है। east godavari | पूर्वी गोदावरी जिले का मुख्यालय काकीनाडा में स्थित है इस जिले के अंतर्गत 7 वित्तीय विभाग है और 60 प्रखंड परिसर और 64 तहसील हैं, इस जिला को 19 विधानसभा क्षेत्र में बांटा गया है east godavari जिला के अंतर्गत लगभग 1059 ग्राम पंचायत है। इस जिले के अंतर्गत एक मुखी रेलवे स्टेशन राजमुंद्री रेलवे स्टेशन हैं और यहां पर एक राजमुंद्री हवाई अड्डा भी स्थित है। east godavari जिले से होकर बहने वाली नदी का नाम गोदावरी, पम्पा, ठंण्डवा और एलेरू नदी इस जिले से होकर बहती है।

east godavari pin code | पूर्वी गोदावरी पिन कोड

पिन कोड भारत के हर राज्य में या विश्व के प्रत्येक राज्य में अलग-अलग जगह का अलग-अलग पिन कोड होता है। east godavari जिले के आगे का 3 डिजिट पिन नंबर  533 है जो कि east godavari के पिन कोड आगे की तीन डिजिट सेम ही रहते हैं। और अलग-अलग जगह के हिसाब से पोस्टल कोड नंबर दिया जाता है जब हम आगे स्थल के बारे में बात करेंगे तो वहां के जगहों का पिन नंबर अंकित करेंगे।

east godavari history | पूर्वी गोदावरी इतिहास

पूर्व गोदावरी मौर्य साम्राज्य के समय से चलते आ रहे हैं, जब मौर्य साम्राज्य कमजोर हुए थे, तो यहां का हिस्सा सातवाहन वंश के शासकों के अधीन में हो गया था। पूर्व गोदावरी कुछ समय के लिए मराठा साम्राज्य के अधीन में भी रहा था। फिर कुछ समय के बाद चालुक्य, चोल वंश के अधीन में रहा था। इसके बाद यह हैदराबाद के निजाम के अधीन में आ गया था। और यह शाह आलम उस समय दिल्ली का सुल्तान भी था। अब हम जानेंगे इस जिले के पर्यटन स्थल के बारे में जो कि बहुत ही ज्यादा रोचक और दिलचस्प होने वाला है। आज हम konaseema, Godavari bridge and Godavari arch bridge ke के बारे में अच्छी तरह से जानेंगे और यहां के पर्यटक स्थल के बारे में भी जानेंगे।

Konaseema | कोनासीमा

कोनासीमा
कोनासीमा

कोनासीमा आंध्र प्रदेश के east godavari जिले में स्थित है, जो कि पर्यटन दृश्य जगह बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध है यहां पर बहुत ही खूबसूरत देखने लायक जगह हैं। जैसे कि कोनासीमा गौतमी और विष्ठा नदी से बने डेल्टा यह जगह अपनी सुंदरता के लिए काफी प्रसिद्धि माना हो जाता है । यदि आप कभी भी कोनासीमा आए तो यहां की गोदावरी नदी में वोट की सवारी बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध है आप एक बार जरूर सवारी करें। यहां इको टूरिस्ट के लिए बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध माना जाता है। यदि आप इस जगह को एक बार घूम लेते हैं तो दोबारा आने का इच्छा जरूरी करेगा।

Godavari bridge | गोदावरी पुल

यह पुल भारत राज्य के राजमुंदरी गोदावरी नदी पर बनाया गया है। इस ब्रिज को राजमुंद्री पुल के नाम से भी जाना जाता है। यह पुल एशिया का सबसे बड़ा दूसरा सड़क रेलवे पुल है। इस ब्रिज पर रेलवे पटरी और सड़क दोनों बनाया गया है। इस पुल की लंबाई लगभग किलोमीटर 2.7 लंबा है।

Godavari arch bridge | गोदावरी आर्च ब्रिज

Godavari arch bridge
Godavari arch bGodavari arch bridgeridge

इस बीच का निर्माण 1997 में किया गया था, यह ब्रिज विश्व के सबसे बड़े आर्च ब्रिज में से एक माना जाता है। यह ब्रिज देखने में बहुत ही ज्यादा खूबसूरत और प्यारा लगता है। इस  पुल पर घूमने के लिए शाम के समय में बहुत ही ज्यादा अच्छा लगता है। गोदावरी ब्रिज से कुछ ही दूरी पर तीन ब्रिज देखने के लिए मिलता है। इसमें से सबसे ज्यादा खास गोदावरी अर्च ब्रिज को ही माना जाता है।

तो दोस्त हमने गोदावरी ब्रिज के बारे में जानकारी ले लिए हैं, अब आगे की जानकारी coringa wildlife sanctuary kakinada के बारे में जानेंगे जो कि देखने में बहुत ही ज्यादा दिलचस्प लगेगा तो चलते हैं इसके बारे में जानने की कोशिश करते हैं।

coringa wildlife sanctuary Kakinada | कोरिंगा वन्यजीव अभयारण्य काकीनाडा

वाइल्ड लाइफ सेंचुरी का कुछ इतिहास के बारे में जानते हैं। Coringa wildlife sanctuary tourism इस स्थान को 1978 में सेंचुरी नाम दिया गया था। कोरिंगा वाइल्डलाइफ सेंचुरी लगभग 235.7 किलोमीटर क्षेत्र में फैली हुई है। यह अभ्यारण 120 से अधिक वन्यजीव की प्रजाति का गढ़ मानी जाती है। यहां पर पर्यटक आने के बाद रोमांच के साथ साथ बहुत ही ज्यादा आनंद ले सकते हैं, इस वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी में मसलन गोदावरी नदी पर निर्मित जल में मछली पकड़ने के साथ-साथ नौका सवारी और स्पीड वोटिंग भी किया जाता है, और यहां पर जेड स्काईंग का भी लुफ्त उठाया जा सकता है। कोरिंगा वाइल्डलाइफ आने वाले पर्यटकों के लिए बहुत सारे दुर्लभ प्रजाति या अलग अलग पक्षी का भी दृश्य देखने के लिए मिलता है जो कि बहुत ही ज्यादा पर्यटकों के लिए आकर्षित होता है। कोरिंगा वन्यजीव अभ्यारण के मुख्य आकर्षण पक्षियों की प्रजातियों इस सेंचुरी में पक्षियों की संख्या 120 से भी अधिक प्रजातियां है,

जो कि यहां पर घूमने वाले पर्यटकों को देखने के लिए मिलता है। जिनमें फ्लेमिंगोज, सिगुल, व्हाइट वल्चर, पेंटिड स्टोर्क, ग्रे हीरोन और लिटिल स्टिंग, ओपन बिल स्टोर्क इत्यादि जीव है। इस अभ्यारण में जंगल का राजा शेर, चीता और जैगुआर जैसे खूंखार जीव रहते हैं। यह जीव आपको हैरान कर देंगे जो  कहीं सुस्ताते दिखाई देंगे तो कहीं आपको शिकार के पीछे करते हुए दिखाई देंगे।

kakinada to coringa worldlife sancturary | काकीनाडा से कोरिंगा वन्यजीव अभयारण्य

काकीनाडा से वाइल्ड लाइफ सेंचुरी की दूरी लगभग 20 किलोमीटर पड़ती है। यहां पर आने के बाद आप जीप की सवारी करते हुए मजे से घूम सकते हैं इस विश लाइफ सेंचुरी को करीब से देखकर इसके बारे में जान सकते है।

बोट राइडिंग-  वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी के अंदर प्रकृति की खूबसूरती का दृश्य देखने को मिलता है इस वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी को भारत की दूसरी सबसे वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी के रूप में जाना जाता है।

Coringa wildlife sanctuary timing | कोरिंगा वन्यजीव अभयारण्य का समय

coringa wildlife sanctuary trip
coringa wildlife sanctuary trip

वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी सुबह 9:00 बजे से लेकर शाम 5:00 बजे तक खुली रहती है। इसी समय के बीच यहां पर पर्यटक घूमकर आनंद ले सकते हैं। वाइल्ड लाइफ सेंचुरी का नजारा साल भर बहुत ही ज्यादा अच्छा रहता है, लेकिन अक्टूबर से मार्च के बीच पर्यटक को घूमने के लिए सबसे अच्छा मौसम रहता है। क्योंकि इस समय में यहां बहुत अच्छा समय रहता है जिसके कारण पशु पक्षी भी ज्यादा देखने को मिलता है यह वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी हफ्ता में मंगलवार को बंद रहती हैं।

कोरिंगा वन्यजीव अभ्यारण में कैसे पहुंचे

आप सड़क मार्ग के माध्यम से पहुंच सकते हैं यह सेंचुरी सड़क मार्ग दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, और बेंगलुरु से जुड़ी हुई है। यहां तक पहुंचने के लिए इन सभी शहरों का दूरी दिल्ली से 1800 किलोमीटर, मुंबई से 1200 किलोमीटर, कोलकाता से 1000 किलोमीटर और वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी बेंगलुरु से 900 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है।

रेलवे मार्ग- काकीनडा रेलवे स्टेशन जो कि वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी से लगभग 15 किलोमीटर दूर पर स्थित है का किला रेलवे स्टेशन यहां के नजदीकी रेलवे स्टेशन है,  काकीनडा रेलवे स्टेशन उन सभी बड़े शहरों से ट्रेन को किंदा तक के लिए मिल जाती है जैसे पुणे मुंबई, बेंगलुरु दिल्ली लखनऊ और कोलकाता से यहां तक आसानी से पहुंच सकते हैं । काकीनडा तक आने वाली ट्रेन गौतमी एक्सप्रेस, कोकादा एक्सप्रेस और सरकार एक्सप्रेस और अन्य ट्रेन के माध्यम से यहां तक पहुंच सकते हैं।

हवाई मार्ग- वर्ल्ड लाइफ सेंचुरी के सबसे निकट हवाई अड्डा राजमुंद्री हवाई अड्डा है जो कि सेंचुरी से लगभग 70 किलोमीटर दूरी पड़ता है। यहां के लिए विशाखापट्टनम हवाई अड्डा से उड़ान की व्यवस्था भी है तथा नागपुर, हैदराबाद, पुणे, मुंबई, बेंगलुरु और दिल्ली से भी यहां के लिए उड़ान की व्यवस्था की गई है।

kukkuteswara swamy temple | कुक्कुटेश्वर स्वामी मंदिर

kukkuteswara swamy temple pithapuram
kukkuteswara swamy temple pithapuram

sri kukkuteswara swamy temple श्री कुक्कुटेश्वर स्वामी मंदिर आंध्र प्रदेश के east godavari जिले में काकीनाडा से लगभग 18 किलोमीटर दूर पर स्थित है, यह मंदिर पीतपुरम के तालुके हेड क्वार्टर शहर में स्थित है इस मंदिर का पूरा नाम कुक्कुटेश्वर स्वामी अलयम मंदिर है इस मंदिर में मनाए जाने वाले वार्षिक उत्सव अलग-अलग देवताओं के लिए अलग-अलग होते हैं जैसे कुक्कुटेश्वर के लिए माघबाहुला एकादशी, कुंती माधव के लिए सुद्दा एकादशी, कुमारा स्वामी के लिए फाल्गुन और वेणुगोपाला सोनी के लिए कार्तिकमास उत्सव मनाया जाता है kukkuteswara swamy temple timings | कुक्कुटेश्वर स्वामी मंदिर का समय सुबह 5:00 बजे से 12:30 बजे तक खुली रहती है, फिर उसके बाद कुछ समय के लिए बंद कर दी जाती है, फिर शाम में 4:30 बजे से रात 8:30 बजे तक खुली रहती है। इस समय के अनुसार पर्यटक यहां पर पूजा कर सकते हैं।

kakinada beach | काकीनाडा बीच

काकीनाडा बीच आंध्र प्रदेश राज्य के east godavari काकीनाडा शहर में है काकीनाडा समुद्र तट शहर का मुख्य आकर्षण है। यदि आप परिवार या दोस्त के साथ घूमने आते हैं तो इस बीच पर जरूर आए यहां पर गुणवत्तापूर्ण समय बिता सकते हैं। काकीनाडा समुद्र तट बंगाल की खाड़ी के साथ अधिक लोकप्रिय समुद्र के रूप में वाणिज्यिक नहीं है। यहां पर आप धूप सेक सकते हैं और रेत पर लेटकर अच्छी समय बिता सकते हैं जैसे ही लहरें टच से टकराती है पर्यटकों को बहुत ही अच्छा लगता है। काकीनाडा बीच से लगभग 12 किलोमीटर दूर पर होप आईलैंड है। यहां पर आप नावों का समुद्र की लहरें पर सवारी कर सकते हैं और खूब सारी मस्ती कर सकते हैं।

haritha beach resort Kakinada | हरिता बीच रिसॉर्ट काकीनाडा

हरिथा बीच रिज़ॉर्ट  काकीनाडा एक देहाती निवास है जहाँ कोई भी शांत वातावरण में आराम कर सकता है। जो पर्यटक यहां तक आने में थक चुके हैं, वे सुकून भरे मूड में आनंद से  दिन बिता सकते हैं। संपत्ति अपने मेहमानों को व्यक्तिगत और मैत्रीपूर्ण सेवाओं के साथ खुश करती है।

kakinada beach park

यदि आप काकीनाडा बीच घुमने के लिए आते हैं तो यह पार्क एक बार जरूर घुमे क्यों यह पार्क के कुछ ही दुरी पर यह पार्क पर्यटक के लिए आकर्षित होती हैं।

kakinada beach resorts

  • Haritha Beach Resort
  • Ratnasiri Food Courts & Resorts
  • Royal Pool Resort
  • Aptdc Haritha Beach Resort

निष्कर्ष

तो दोस्त आज हमने आंध्र प्रदेश के east godavari जिले के इतिहास के बारे में बताएं और इस जिले से जुड़े उन सभी जगहों के बारे में बताए हैं जो कि इस जिला को एक सुंदरता के रूप में जाना जाता है और यहां के वातावरण के बारे में भी बताए हैं  इस जिले में सबसे ज्यादा घुमने का कोन सा जगह हैं  इन सभी के बारे में हम आज के इस पोस्ट में जाने हैं जैसे ecourts east godavari, coringa wildlife sanctuary accommodation, kukkuteswara swamy temple timings, kakinada haritha beach resor, beach festival in kakinada इन सभी के बारे में हम बहुत ही अच्छी तरह से जान लिए हैं यदि आप सभी को घूमने जाना है तो आप कैसे जाएंगे और कौन से समय में जाएंगे इन सब का अंदाज आ ही गया होगा तो दोस्त यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। धन्यवाद

Best 10. place anantapur temple fort

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Click Here To Translate