mahanandi temple darshan timings

Best 10. place kurnool district Temple & beach

हेलो दोस्त कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूं कि आप लोग अच्छे ही होंगे दोस्त पिछले पोस्ट में हम अंध्र प्रदेश के कुरनूूल जिले के घूमने वाले स्थल के बारे में बताया था। आज की इस पोस्ट में हम नेल्लोर जिले के बारे में बताएंगे कि यहां पर घूमने वाले जगह के बारे में बात करेंगे जो कि देखने में बहुत ही खूबसूरत जगह है। दोस्त आज के पोस्ट में हम kurnool, belum caves, yaganti temple, mahanandi temple, rock garden, rollapadu wildlife के बारे में जानकारी आप सभी को दी जाएगी तो आप सभी कृपया बने रहे इस पोस्ट के साथ और इंटरेस्टिंग जगह का आनंद लीजिए। तो दोस्त चलते हैं इस पोस्ट की ओर।

Kurnool History | कुर्नूल इतिहस

kurnool pincode
kurnool pincode

kurnool जिला मध्य प्रदेश के उन सभी जिलों में से एक है । आंध्र प्रदेश राज्य के सबसे बड़े शहरों में से एक कुर्नूल पांचवा सबसे ज्यादा आबादी वाला शहर है। कुरनूल जिला हंद्री और तुंगभद्रा नदी के किनारे स्थित है यह जिला 1953 से 1956 तक आंध्र प्रदेश का राजधानी भी कहलाता था। या जिला हैदराबाद से 212  किलोमीटर दूर स्थित है। इस जिला को रायलसीमा का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है, क्योंकि आप सभी हैदराबाद से कड़प्पा चित्तौड़ या अनंतपुर जाना चाहते हैं तो आपको कुर्नूल से ही होकर गुजर ना होगा यहां के चमक दमक के कारण घूमना एक अच्छा अनुभव साबित होता है। 2011 जनगणना के दौरान कन्नौज जिले की आबादी 460184 है यह आंध्र प्रदेश राज्य के पांचवा सबसे अधिक आबादी वाला शहर है। कुरनूल शब्द की उत्पत्ति कंडनवोलू से हुआ है। क्योंकि कंडनवोलऊ  इस स्थान का तेलुगू नाम है। कुर्नूल से 18 किलोमीटर दूर केटावरम में पाए गए रॉक पेंटिंग्स पत्थर में बनाई गई है पाई गई पेंटिंग लगभग 35000 साल से 40000 साल पुरानी है हालांकि यहां राजा श्री कृष्ण देव राय का शासन था।

सन 1667 मैं यहां मुगलों ने अधिकार कर लिया और फिर बाद में आंध्र प्रदेश के कुरनूल क्षेत्र पर नवाबों ने कब्जा जमा लिया था बाद में नवाबों ने इसे स्वतंत्र घोषित राज्य घोषित कर दिया फिर करीब 2 साल तक कुरनूल पर स्वतंत्र क्षेत्र के रूप में शासन किया 18 वीं शताब्दी में नवाबों और अंग्रेजों के बीच युद्ध भी हुआ था। यदि आप कुर्नूल घूमना पसंद करते हैं तो आप कुरनूल जिला घूमने में आपको कोई कठिनाई नहीं होती है यहां पर सबसे नजदीकी एयरपोर्ट हैदराबाद का राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट है (kurnool airport ) एयरपोर्ट से कुर्नूल पहुंचने में सड़क मार्ग से सर 3 घंटा के आसपास का समय लगता है कुर्नूल में चार रेलवे स्टेशन भी है जो कुर्नूल टाउन, अदोनी, नंदयाला और धोने जंक्शन इन सभी के जरिए आप कुर्नूल भारत के प्रमुख शहरों को घूम सकते हैं यहां से राज्य के विभिन्न शहरों के साथ-साथ बेंगलुरु और चेन्नई से बस सेवाएं उपलब्ध रहती है। हैदराबाद से कुरनूल बस (hyderabad to kurnool bus) बहुत सारी चलती हैं।  kurnool pin code– 518001

City distance around Kurnool (कुर्नूल के आसपास की शहर की दुरी)

  • kurnool to Hyderabad- 212.1 km
  • hyderabad to kurnool distance- 215.1 km
  • kurnool to Bangalore- 358.6 km
  • kurnool to Vijayawada- 342.7 km
  • anantapur to kurnool distance- 148.2 km

kurnool weather | कुरनूल मौसम

  • गर्मी मार्च से मई तक कुर्नूल में गर्मी का मौसम रहता है यहां की काफी गर्मी आदमियों को बहुत ही परेशानी का सामना करना पड़ता है यहां पर गर्मी 10 डिग्री से 40 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है अभी आप अनपढ़ देशराज के कुरनूल घूमने जाते हैं तो आप सभी समय के अनुसार से जाए गर्मी के समय में वहां पर घर से निकलना बहुत ही कठिनाई होती है इसी किसी कारण से यहां घूमने जाना अच्छा नहीं माना जाता है।
  • मानसून- यहां पर जुलाई से सितंबर के बीच बरसात का समय रहते हैं यहां पर बारिश होने से यहां के आदमियों को बहुत ही सुकून का जिंदगी बिताते हैं क्योंकि गर्मी में आदमी को घर से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता था और बारिश के समय में यहां का वातावरण कुछ ठंडा पन महसूस कराता है।
  • सर्दी- कुरनूल में दिसंबर से फरवरी तक ठंडी का मौसम रहता है kurnool temperature  लगभग 20 डिग्री से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच रहते हैं और सर्दी मौसम को बहुत ही अच्छा माना गया है क्योंकि यहां के लोगों बहुत ही अच्छे से अपने घर से बाहर निकलकर किसी दूसरे जगह घूम सकते हैं क्यों कि यहां का तापमान बहुत ही कम हो जाता है।  और कुर्नूल घूमने के लिए बहुत ही ठंड के समय में अच्छा माना गया है यदि आप लोग कुर्नूल घूमने जाते हैं तो हमारे हिसाब से ठंड का मौसम ही सही है। kurnool pincode– 518001

कुरनूल में होटल (hotels in Kurnool)  यहां पर बहुत सारी होटले हैं जो की घूमने वाले पर्यटकों के लिए रहने और खाने पीने का बहुत ही अच्छा सुविधा है, यदि आप लोग कुर्नूल घूमने आते हैं कुर्नूल में बहुत ही अच्छी-अच्छी होटल है जो आप वहां पर रुक सकते हैं। जैसे-

  • Iroomz Sasya Pride
  • Hotel Shobha
  • Sai Krishna Residency
  • Suraj Hotel
  • Sign Regency Hotel
  • Hotel Athidi Regency
  • Hotel Kanishka Inn
  • OYO 60652 Ms9 Guest Inn
  • Nvr Hotels
  • Iroomz Nagamayuri
  • Mourya Lords Inn Kurnool
  • Triguna Clarks Inn
  • Hotel DVR Mansion

belum caves | बेलम गुफाएं

belum caves
belum caves

belum caves kurnool, andhra pradesh राज्य के कुरनूल जिले के कोलीमिगुंडाला मंडल में बेलन गांव के पास स्थित है।कोलीमिगुंडाला गांव से लगभग बेलम गुफा 3 किलोमीटर दूर स्थित है और पेटनीकोटा गांव से 8 किलोमीटर दूर स्थित है। बेलम गुफाएं सबसे लंबी गुफा होने के कारण से भारतीय उपमहाद्वीप पर जाना जाता है। बेलम गुफाएं में ताजा पानी और शिफॉन के साथ लंबे मार्ग, विशाल गुफाएं हैं। तेलुगु भाषा में इसे बेलन गुहलु कहा जाता है। इस गुफा के अंदर जाने के लिए मुख्य प्रवेश द्वार 16 अलग-अलग मार्ग है इस गुफा के अंदर काले चुने पत्थर शामिल है इस गुफा को स्थानीय लोगों के लिए जाना जाता है बेलत गुफा का खोज जर्मन के हर्बर्ट डैनियल गेबॉयर ने 1982 से 1983 के बीच खोज किऐं । और 1999 आंध्र प्रदेश पर्यटन ने गुफा का विकास शुरू किया। बेलम गुफाओं के पास एक पहाड़ी पर एक बड़ी बुद्ध मंदिर है। बेलम गुफाओं तक पहुंचने के लिए इसे के आस पास रेलवे स्टेशन तदीपत्री है, जो 30 किमी दूर है। बेलत गुफा जाने के लिए आप बस के माध्यत से जा सकते हैं। बेलम गुफाओं का समय (belum caves timings) सुबह 10:00 बजें से शाम 4:30 बजें तक खुलि रहती हैं। बेलम गुफाएं गंडिकोटा (belum caves gandikota)  यह दोनो स्थान 61 किलोमिटर पर स्थित हैं।

City distance around belum caves | बेलम गुफाओं के आसपास शहर की दूरी

  • kurnool to belum caves distance- 107.1 km
  • kurnool to belum caves- 107.1 km
  • tadipatri to belum caves- 29.9 km
  • belum caves to Bangalore- 300.0 km
  • belum caves to Hyderabad- 322.3 km
  • belum caves to ahobilam distance – 81.7 km
  • belum caves from Chennai- 381.8 km

hotels near belum caves | बेलम गुफाओं के पास होटल

  • belum caves hotels Apr Paradise
  • Kanchani Lodge
  • SPOT ON 49347 Jayalakshmi Residency Lodge

belum caves route map

belum caves route map
belum caves route map

 

yaganti temple history | यागंती मंदिर का इतिहास

yaganti temple images
yaganti temple images

आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले में यगंती उमा महेश्वर मंदिर (yaganti uma maheswara temple) स्थित है यागंती मंदिर (yaganti temple) को हमारे देश के ऐतिहासिक धरोहरों में से एक माना गया है। यहां के लोगों को मानना है कि इस यागंती उमा महेश्वरी मंदिर में स्थापित नंदी की मूर्ति का आकार हर 20 साल में 1 इंच बढ़ता है। इस मूर्ति को बनाने के लिए जिस पत्थर का उपयोग किया गया है। वह पत्थर की प्राकृतिक बढ़ने वाली है इसी वजह से मूर्ति का आकार बढ़ रहा है। यहां पर आने वाले भक्तों पहले नंदी की परिक्रमा आसानी से कर लेते थे लेकिन लगातार बढ़ते आकार के कारण यहां पर भक्त परिक्रमा करना असंभव हो गया है। इस मंदिर का निर्माण संगमा राजवंश के राजा हरीश गुप्ता ने बंदर वी शताब्दी में मंदिर को बनवाया था । कहां जाता है कि श्री यज्ञंती उमा महेश्वर मंदिर (sri yaganti uma maheswara temple) के अंदर कौवा नहीं आते हैं क्योंकि तपस्या के दौरान  डालने रुकावट की वजह से ऋषि अगस्त्य ने कौवे को यह शराब दिया था कि इस मंदिर के प्रांगण में कौवे नहीं आ सकेंगे। यागंती मंदिर का समय (yaganti temple timings) सुबह 6:00 बजें से देपहर 2:00 बजें तक और 3:00 बजें से शाम 7:30 बजें तक खुलि रहती हैं।

Distance of place around yaganti temple accommodation | यागंती मंदिर आवास के आसपास जगह की दुरी

  • mahanandi temple to yaganti distance- 61.9 km
  • kurnool to yaganti temple distance- 83.7 km
  • hyderabad to yaganti temple- 301.5 km
  • nandyal to yaganti temple distance- 48.0 km

mahanandi temple | महानंदी मंदिर

mahanandi temple darshan timings
mahanandi temple darshan timings

महानंदी मंदिर आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले में नल्लामाला पहाड़ियों के पूर्व में स्थित एक गांव गांव में स्थित है महानंदी मंदिर कुरनूल जिले से लगभग 15 किलोमीटर दूर है या मंदिर शिव भगवान का प्रतिमा है यह मंदिर वास्तुकला के लिए भी जाना जाता है। महानंदी मंदिर 1500 साल से भी पुरानी है। महानंदी मंदिर में महाशिवरात्रि का प्रसिद्ध उत्सव मनाया जाता है। महानंदी नंदलाल से लगभग 21 किलोमीटर दूर है इसके निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा हैदराबाद में है जो कुरनूल से लगभग 215 किलोमीटर दूरी पर है और इसके निकटतम रेलवे स्टेशन नंदलाल में है नंदलाल शहर से महानंदी पहुंचने के लिए दो मार्ग थिम्मापुरम मार्ग बस स्टैंड से 17 किलोमीटर दूरी पड़ता है और दूसरा है गिद्धलुर रोड निहाल से लगभग 24 किलोमीटर दूरी पड़ता है महानंदी मंदिर का समय ( mahanandi temple timings ) सुबह 5:00 बजें से रात 9:00 बजें तक खुलि रहती हैं।

mahanandi temple water | महानंदी मंदिर का पानी

इस मंदिर में जल स्रोत की एक विशेषताएं यह है कि इसमें मौसम के परिवर्तन के बावजूद भी नियंत्रण प्रवाह होता है। इस मंदिर में देखा जाता है कि जल स्रोत स्वयंभू लिंग के ठीक नीचे गर्भगृह से निकलता है। पानी अपने क्रिस्टलीय और उपचार गुणों के लिए प्रसिद्ध माना जाता है। मंदिर से बाहर जाने वाली पानी पानी से गांव के आसपास के 2001 में भूमि की सिंचाई होती है यह मंदिर कोनेरू (mahanandi temple koneru)  के लिए प्रसिद्ध है सर्दियों के मौसम में इस मंदिर परिक्रमा से पानी बहुत गर्म रहता है।

श्रीशैलम से महानंदी मंदिर (srisailam to mahanandi temple) – 190.4 km

नंदयाल से महानंदी मंदिर की दूरी (nandyal to mahanandi temple distance) – 17.4 km

rock garden Kurnool | रॉक गार्डन कुरनूल

rock garden अंग प्रदेश के कुरनूल जिले से लगभग 20 किलोमीटर दूर ओरवाकल गांव के बाहर एनएच- 18 राजमार्ग पर स्थित है। इस गार्डन में वोटिंग होटल इत्यादि की सुविधाएं हैं। आंध्र प्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा यात्रा के लिए बहारों में रास्ता का विकास किया गया था। कहां जाता है कि कई कंपनियों ने इस क्षेत्र के खान की क्षमता के लिए याचिका दायर की है जो परिस्थिति चीता को जन्म देती है। rock garden timings सुबह 9 से शाम 7 बजे तक खुली रहती है और यह सप्ताह में सभी 7 दिनों खुली रहती है। हालांकि, ठंडे की वजह से  अक्टूबर से मार्च महीनों के समय में यह शाम 6 बजे बंद हो जाता है।

rollapadu wildlife sanctuary Kurnool | रोलापडु वन्यजीव अभयारण्य कुरनूल

rollapadu wildlife sanctuary timings
rollapadu wildlife sanctuary timings

rollapadu wildlife sanctuary  आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले और कर्नाटक राज्य की सीमा के करीब है कुरनूल जिले से लगभग 45 किलोमीटर दूर है और कटप्पा से 172 किलोमीटर और रायचूर से 152 किलोमीटर दूरी पर है यह क्षेत्र लगभग 1.14 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है। 1988 में महान भारतीय बस्टर्ड और कम फ्लोरीकन की रक्षा के लिए स्थापित किया गया था। और बस्टर्ड के लिए निवास स्थान बना हुआ है जो एक गंभीर रूप से लुप्तप्राय प्रजाति है इसकी औसत ऊंचाई 290 मीटर है। रोलापाडु मुख्य रूप से जंगल और कंटीली झाड़ियों वाला घास का मैदान है अभयारण्य की सीमा वाली कृषि भूमि में कपास तंबाकू और सूर्यमुखी की खेती की जाती है। रोलापाडु अभयारण्य मैं विभिन्न प्रकार के जीव और पक्षी की प्रजातियों का घर है। जैसे लोमड़ी सियार बोनट मकका जंगली बिल्ली सुस्त भालू और काले हिरण के साथ-साथ रसेल के सांप और भारतीय कोबरा रहता है इसमें 132 पक्षी की प्रजाति है।

निष्कर्ष

तो दोस्त आज हमने आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के बारे में जाने हैं कि यहां पर कौन-कौन सी जगह घूमने का स्थल है जैसे belum caves andhra Pradesh,  yaganti temple images,  yaganti temple nandi और से बहुत जगह के बारे में जानें हैं। दोस्त यदि आप का यह पोस्ट अच्छि लगी हुई हो तो आप कॉमेंट बॉक्स कॉमेंट कर के जरूर बतायें। धन्यवाद

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Click Here To Translate