penchalakona narasimha swamy temple

Top 10. place Nellore district Temple & beach

हेलो दोस्त कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूं कि आप लोग अच्छे ही होंगे दोस्त पिछले पोस्ट में हम अंंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के घूमने वाले स्थल के बारे में बताया था। आज की इस पोस्ट में हम नेल्लोर जिले के बारे में बताएंगे कि यहां पर घूमने वाले जगह के बारे में बात करेंगे जो कि देखने में बहुत ही खूबसूरत जगह है। दोस्त आज के पोस्ट में हम nellore, sri ranganathaswamy temple srirangapatna, mypadu beach के बारे में जानकारी आप सभी को दी जाएगी तो आप सभी कृपया बने रहे इस पोस्ट के साथ और इंटरेस्टिंग जगह जगह का आनंद लीजिए। तो दोस्त चलते हैं इस पोस्ट की ओर।

नेल्लोर इतिहास | Nellore History

penchalakona temple photos
penchalakona temple photos

नेल्लोर आंध्र प्रदेश राज्य के पन्नार नदी के किनारे बसा खूबसूरत शहर नेल्लोर है। आंध्र प्रदेश के तेज गति के विकसित होने वाले शहर में से यह एक है आंध्र प्रदेश के छटवां सबसे अधिक घनत्व वाले शहर है इस जिले का पूर्व नेल्लोर के नाम से ही जाना जाता था। यह शहर तीसरी शताब्दी में मौर्य शासक अशोक के साम्राज्य का हिस्सा था चौथी से छठवीं शताब्दी तक पल्लवों मैं यहां पर शासन किया था नेल्लोर को विक्रमसिम्हसपुरी के नाम से भी जाना जाता था। यह नाम संस्कृति दृष्टि से नेहरू और आंध्र प्रदेश के अन्य शहरों में से अलग माना जाता है क्योंकि यहां पर महान तेलुगु कभी तिखना सोमवाजी का जन्म हुआ था जिन्होंने महाभारत का तेलुगु भाषा में अनुवाद किया था। ब्रिटिश शासक के दौरान नेल्लोर  एक शांतिपूर्ण स्थल था। भारत के आजादी के पश्चात यह क्षेत्र राजनीतिक परिवर्तन का केंद्र बन गया था। नेल्लोर जिला 1953 तक मद्रास राज्य के अधीन था बाद में नेल्लोर शहर को आंध्र प्रदेश के गठन के बाद जिला बनाया गया था। यह मुख्य रूप से आंध्र प्रदेश राज्य की स्थापना से जुड़ा हुआ था। यहां प्रसिद्ध देशभक्त रामुलु अपना आंदोलन चलाते थे जो एक तेलुगु निवास थे। नेल्लोर जिला का क्षेत्रफल 57.90 वर्ग मीटर में फैला हुआ है। 2011 के जनगणना के दौरान इस शहर की जनसंख्या 50,5751 है। nellore pin code- 524001

नेल्लोर मौसम | nellore weather

nellore weather
nellore weather

नेल्लोर जिला घूमने के लिए सबसे अच्छा समय सर्दी के दौरान होता है इसके दौरान तापमान कम होता है और मौसम ठंडा रहती है अक्टूबर से फरवरी तक पर्यटक आसानी से नेल्लोर की सभी जगह घूम सकते हैं ठंड की महिमा नेल्लोर यात्रा के लिए सबसे आदर्श होती है

  • गर्मी- नेल्लोर में गर्मी के मौसम में यहां पर बहुत अत्यधिक मात्रा में गर्म और शुष्क होता है। weather in nellore की तापमान गर्मी में 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है और इसका न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रहता है यहां पर मार्च से जून तक बहुत ज्यादा गर्मी रहती है और इस समय में पर्यटकों को घूमने के लिए बहुत ही कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है इसलिए पर्यटक को गर्मी के दौरान नहीं सैर करते हैं।
  • मानसून- नेल्लोर में मॉनसून जुलाई से सितंबर तक रहती है और बारिश के मौसम में नेल्लोर तापमान (nellore temperature) थोड़ा कम रहता है 32 डिग्री से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है यहां बारिश के मौसम में हल्का ठंडा और सुखद रहता है।
  • सर्दी- नेल्लोर में सर्दी का मौसम अक्टूबर अंत से फरवरी अंत तक रहती है और यहां पर घूमने के लिए सबसे अच्छा मौसम सर्दी के दौरान होता है क्योंकि उस समय का तापमान लगभग 15 डिग्री सेल्सियस से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। इस समय पर्यटक को घूमने के लिए आते हैं और यहां यहां पर अलग-अलग जगहों पर मस्तियां करते हैं इसीलिए सर्दियों के मौसम में घूमने के लिए सबसे अच्छा समय रहता है। nellore pincode- 524001

City distance around nellore (नेल्लोर के आसपास की शहर की दुरी)  

  • vijayawada to nellore distance- 282.4 km
  • nellore to chennai distance- 151.0 km
  • hyderabad to nellore distance- 454.2 km
  • nellore to Bangalore- 382.7 km
  • ongole to nellore distance- 132.0 km
  • nellore to tirupati- 112.0 km
  • chennai to nellore – 151.4 km

penchalakona temple | पंचालकोना मंदिर

पंचालकोना नरसिंह स्वामी मंदिर (penchalakona narasimha swamy temple) आंध्र प्रदेश राज्य के नेल्लोर से 70 किलोमीटर पश्चिम में पेंचलाकोना  गांव में स्थित है। यह मंदिर पेनुसीला लक्ष्मी नरसिम्हा स्वामी मंदिर पेंचलाकोना घाटी में एक पहाड़ी दामन में स्थित है। यहां भगवान की एक छवि है जिसमें स्वयं प्रकट के रूप में दर्शाया गया है कि एक आदमी के शरीर पर शेर का सिर बनाने के लिए दो पत्थरों को आपस में जोड़ा जाता है मंदिर की स्थल पुराण या प्राचीन कहानी संकेत करती है। यहां स्वामी कंवमहर्षि के थापोवन के लिए प्रसिद्ध था जिन्होंने वहां तपस्या की थी। यहां पर साल में 1 उत्सव होता है जो पेंचलाकोना एक प्रमुख कार्यक्रम है वैशाख के महीने के दौरान मनाया जाता है यह उत्सव शुद्ध द्वादशी के दिन से शुरू होता है। इस अवसर को मनाने के लिए भक्त नरसिंहस्वामी जयंती के लिए सभी लोग एकत्र होते हैं। पंचालकोना मंदिर का समय (penchalakona temple timings) सुबह 6:30 बजें से दोपहर 12:30 तक खुलि रहती हैं। और 3:30 बजें से रात 7:30 बजें तक खुलि रहती हैं।

sri ranganathaswamy temple history | श्री रंगनाथस्वामी मंदिर का इतिहास

penchalakona narasimha swamy temple
penchalakona narasimha swamy temple

श्री रंगनाथस्वामी मंदिर आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में स्थित है इस मंदिर में भगवान विष्णु जी का स्थानीय पूजा किया जाता है भगवान विष्णु के अवतार रंगनाथ के रूप में है। इस मंदिर को तालपगड़ी रंगनाथस्वामी मंदिर और रंगनायकुलु के नाम से जाना जाता है इस मंदिर का निर्माण 12वीं शादी में करवाया गया था। यह मंदिर पिन्ना नदी के किनारे पर स्थित है। इस स्थान के बारे में कई शब्द कहीं जाती है। लोक कथाओं के अनुसार से ऋषि कश्यप ने यहीं याद करवाया था इसलिए करवाने से भगवान ने प्रशंसा होकर ऋषि को वरदान दिया था कि इस मंदिर की वास्तुकला काबिलेतारीफ हैं। इस मंदिर को पल्लव शैली में बनाया गया था। और यहां की मुख्य विशेषताएं गालीगोपुरम हैं। जिसे हवा टावर के नाम से भी जाना जाता है इससे कालीसम के नाम से भी जाना जाता है इस टावर के ऊपर मैं सोने का कलश रखा गया है। ताकि मंदिर की भव्यता को बढ़ाया जा सकें । या मंदिर नेल्लोर के सबसे महत्वपूर्ण अस्थल में से एक है आप नेल्लोर से इस मंदिर तक आसानी से दर्शन करने के लिए पहुंच सकते हैं। मंदिर में हर साल एक वार्षिक उत्सव मनाया जाता है। उत्सव के समय देवी-देवताओ की मूर्तियों को गहनों से सजाया जाता है। यहां के स्थानिक लोग बहुत धूम-धाम से इस उत्सव को मनाते है। श्री रंगनाथ स्वामी मंदिर का समय (sri ranganathaswamy temple timings) सुबह 07.30 बजे से दोपहर 01.00 बजे तक खुली रहती है। और शाम को 04.00 बजे से 08.00 बजे तक भक्तों के लिए फिर से खुल दिया जाता है। मैसूर से श्री रंगनाथस्वामी मंदिर की यात्रा के दौरान, पर्यटक श्रीरंगपटना और उसके आसपास के अन्य लोकप्रिय स्थानों को भी देख सकते हैं। टीपू किला, निमिषम्बा मंदिर, गोसाई घाट और जुम्मा मस्जिद यहाँ के कुछ लोकप्रिय दर्शनीय स्थल हैं। जो पर्यटाकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं।

श्री रंगनाथस्वामी मंदिर श्रीरंगपटन दर्शन का समय (sri ranganathaswamy temple srirangapatna darshan timings) – 07.30 बजे से 08.00 बजे रात तक खुली रहती हैं।

mypadu beach | मायपाडु बीच

mypadu beach images
mypadu beach images

मायापाडु बीच आंध्र प्रदेश राज्य के नेल्लोर जिले से लगभग 25 किलोमीटर दूरी पर बंगाल की खाड़ी से पश्चिम तट पर स्थित है। समुद्र का रखरखाव के लिए राज्य पर्यटन बॉर्डर एपीटीडीसी द्वारा किया जाता है। समुद्र तट के लोगों के लिए मछली पकड़ने का अवसर प्रदान करता है और यहां के पर्यटकों के लिए परिभ्रमण तक पहुंचने के लिए प्रदान करता है। आंध्र प्रदेश पर्यटन  विकास के लिए एपीटीडीसी पानी के खेल और रिसॉर्ट्स के विकास जैसे मनोरंजन गतिविधियों की स्थापना करके मायापाडु बीच को पर्यटन स्थल के रूप में बढ़ावा देने के लिए इस समुद्र तट पर काम कर रहा है।

मायापाडु बीच प्राचीन समुद्र जल के सुनहरी भूरी रेत के साथ मंत्रमुग्ध कर देने वाली समुद्र तट है। यह बीच भारत के पश्चिम तट पर स्थित है। कोई भी व्यक्ति समुद्र पर एक लंबे शांतिपूर्ण सैर  कर सकते हैं या घूम सकते हैं इस समुद्र तट पर बैठकर जीवन के बारे में सोच सकते हैं यहां की सुंदरता को देखने के लिए बहुत दूर-दूर से पर्यटन घूमने के लिए आते हैं। यह बीच पर धूप सेकने के लिए एकदम सही जगह है लेकिन सुबह और शाम ठंड हवा में टहलने के लिए सही है। क्योंकि सूर्योदय देखने के लिए आप घूमते हुए आनंद ले सकते हैं। मायापाडु बीच स्थानीय मछुआरों और यात्री द्वारा अपने शानदार दृश्य और दिलकश दृश्य के लिए अक्सर देखा जाता है।

  • nellore to mypadu beach distance- 56.8 km
  • nellore to mypadu beach- 56.8 km

मायपाडु हरिथा बीच रिसॉर्ट | mypadu haritha beach resort

mypadu beach resort nellore
mypadu beach resort nellore

यह होटल में पर्यटकों को बहुत ही अच्छा सुविधा दिए गए है, जो कि यहां पर पर्यटक ठहर सकते हैं और यहां पर मस्ती भी कर सकते हैं इसमें होटल मैं खाने पीने की बहुत अच्छी सुविधा दिए गए हैं इस जगह से आप समुद्र की लहरे का आनंदन ले सकते हैं यदी आप मायापाडु बीच अपने परिवार के साथ आते हैं तो आपको यहां पर रुकने के लिए बहुत अच्छी सुविधा मिल जाएगी यहां के आसपास और बहुत सारी होटल, रिजॉट अलग अलग तरीके के है।

निष्कर्ष

तो दोस्त आज हम आपसभी को आंध्र प्रदेश राज्य में नेल्लोर जिले के इतिहास के बारे में बताएं हैं और नेल्लोर जिले में कौन-कौन सी जगह घूमने का स्थान है उन सभी के बारे में बहुत ही अच्छी तरीके से बताए हैं और नेल्लोर घूमने के लिए कौन सा समय ठीक रहता है इसके बारे में भी बताए हैं और बहुत से जगहों के बारे में इस पोस्ट के माध्यम से जाने हैं। जैसे sri ranganathaswamy temple shivanasamudra, mypadu beach resort, mypadu haritha beach resort, mypadu beach resort nellore, mypadu beach images, mypadu beach resort online booking इन सभी के बारें में अच्छी तरह से जान गयें होंगे । दोस्त अभी आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं यदि आपको इस पोस्ट के माध्यम से किसी भी प्रकार का प्रश्न पूछना चाहते हैं तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं धन्यवाद

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Click Here To Translate